राजा दशरथ की तरह मुझे भी वनवास भेजा नीतीश चाचा ने:तेजस्वी

राजा दशरथ की तरह मुझे भी वनवास भेजा नीतीश चाचा ने:तेजस्वी

पूर्व उपमुख्यमंत्री श्री तेजस्वी प्रसाद यादव जी का सरकार के विश्वास मत‌ पर विधानसभा में दिया गया भाषण

विजय शंकर

पटना । पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने एनडीए सरकार के फ्लोर टेस्ट पर हो रही चर्चा के दौरान जोरदार भाषण दिया. उन्होंने अपने पूरे भाषण में सीएम नीतीश कुमार की पलटने वाली आदत पर निशाना साधा. इसके अलावा अपने कार्यकाल के कामकाज को भी पेश किया. तेजस्वी ने कहा कि मैं नीतीश सरकार के प्रस्ताव के विपक्ष में खड़ा हुआ हूं. मैं मुख्यमंत्री जी को धन्यवाद देना चाहता हूं कि लगातार 9 बार उन्होंने सरकार बनाने का काम किया है. एक ही टर्म में तीन तीन बार मुख्यमंत्री बनते पहली बार किसी को देखा गया है. बड़ी खुशी है कि सम्राट चौधरी डिप्टी सीएम बने. सम्राट चौधरी भाजपा को अपनी मां कहते हैं, लेकिन वे तो पहले राजद में थे तो राजद उनकी मां हुई. एक टर्म में स्पीकर, नेता विरोधी दल और डिप्टी सीएम बनने का इतिहास रचा है विजय कुमार सिन्हा ने. हम माननीय मुख्यमंत्री जी की इज्जत करते हैं. इनके साथ हमने काम किया. माननीय मुख्यमंत्री कई बार बोले थे, तुम मेरे बेटे जैसे हो. हम भी उन्हें इज्जत करते हैं. हम उन्हें अपना गार्जियन मानते हैं. कई बार मजबूरियां रही होंगी इनकी, जैसे दशरथ की मजबूरी रही होगी कि उन्होंने राम को वनवास के लिए भेज दिया था. इसलिए नीतीश कुमार जी ने हमको वनवास के लिए भेज दिया है जनता का दुख समझने के लिए.

उन्होंने कहा कि नीतीश जी कहते थे कि भाजपा वाले सब ईडी और सीबीआई को पीछे छोड़ देता है. आप कभी इधर रहते हैं और कभी उधर रहते हैं. आखिर क्या ऐसा हो गया कि आपको ऐसा निर्णय लेना पड़ा. बेईमानी के बाद भी एनडीए और महागठबंधन में ज्यादा डिफरेंस नहीं था. आपका कहना था कि आपकी पार्टी को तोड़ा जा रहा है. आपने तो कहा था कि मर जाएंगे, मिट जाएंगे पर उन सबके साथ नहीं जाएंगे. देशभर के विपक्षियों को एकजुट कर तानाशाह को रोकने के लिए आप हमारे साथ आए थे. आप कहते थे कि हमारे साथ आपका मन नहीं लग रहा था. तो क्या हम नाच गाकर दिखाएं आपको खुश करने के लिए. 2020 के चुनाव में आपने क्या कहा था, अपने बाप के पास से पैसा लाएगा, जेल से नौकरी लाएगा. और हमने करके दिखा दिया. हमको दुख इस बात का नहीं है कि हम विपक्ष में आ गए. खुशी इस बात की है कि 17 महीने में बिहार में नौकरियां लोगों को मिली।

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि जब आप हमारे साथ आए थे तो आपने कहा था, लोकसभा चुनाव मिलकर लड़ेंगे और नरेंद्र मोदी की सरकार को हटाने का काम करेंगे. हम वो बताना नहीं चाहते हैं, दशरथ नहीं चाहते थे कि राम वनवास जाएं पर कैकेयी जरूर चाहती थीं कि राम वनवास पर जाएं. सम्राट चौधरी पगड़ी पहनते हैं. अब खोलिएगा. हमें विश्वास है कि विजय जी जरूर सलाह दिए होंगे सम्राट चौधरी पगड़ी खोल दें. सम्राट चौधरी किस तरह मुख्यमंत्री को निशाने पर लिए रहते थे, यह सब याद करने वाली बात है. क्या क्या शब्द का प्रयोग नहीं किया गया. मोदीजी की गारंटी तो बहुत मजबूत वाला गारंटी है. क्या मोदीजी गारंटी लेते हैं कि नीतीश कुमार जी फिर से पलटेंगे कि नहीं. खूब जोड़ी है आपलोगों का. आपलोग क्या क्या बोलते थे.

उन्होंने कहा कि सबसे बड़ा दल हमारा है. आप मुख्यमंत्री हैं हम डिप्टी सीएम थे. कितना अच्छा हम अच्छे माहौल में बातचीत करते थे. हमारे मन में कोई खोट नहीं है. हम एकदम मजबूती के साथ खूंटा गाड़कर खड़े हैं. आप तो खुद ही गवर्नर हाउस चले गए. आप इतनी बात तो कह सकते थे कि क्या दिक्कत थी. आपको शंका थी तो एक बार बात करते. फिर हम शपथपत्र देते और फिर कोई माई का लाल कोई कुछ नहीं कर पाता. जो आप झंडा लेकर चले थे, अब आपका भतीजा झंडा लेकर चला है मोदी जी को बिहार में रोकने का. यह कोई पहली बार नहीं है कि हम आपके साथ लड़ रहे हैं. हमने महागठबंधन बनाया था.

तेजस्वी ने कहा कि हम बोले थे कि हम अगर आपके साथ आएंगे तो भाजपा को रोकेंगे ही, पर हमने जो जनता को जो वादा किया है, उसे पूरा करना होगा. इस पर मुख्यमंत्री जी बोले कि हो जाएगा हो जाएगा. वित्त सचिव सिद्धार्थ जी को मेरे पास भेजा गया. फाइल दिखाए, कैसे होगा. पैसा है नहीं. हमने बोल दिया कि यह काम हमें किसी भी हालत में करना है. मेरे पिताजी के बारे में आपलोग बोलते थे कि बाप के यहां से पैसा लाएगा. इच्छाशक्ति होनी चाहिए. थके हुए मुख्यमंत्री जी को हमने दौड़ाने का काम किया. फिर जातीय जनगणना की बात हुई. भाजपा वाले तो जातीय जनगणना पर सॉलीसीटर जनरल तुषार मेहता को खड़ा कर दिया था. आप तो सब बात जानते हैं फिर भी वहां चले गए.

राजद नेता ने कहा कि कर्पूरी जी को भारत रत्न मिला. बहुत खुशी की बात है. आपने और मेरे पिताजी कर्पूरी जी के साथ काम कर चुके हैं. यही जनसंघ वालों ने तो कर्पूरी जी को मुख्यमंत्री के पद से हटाया और आज आप कहां बैठ गए. इनलोगों ने तो भारत रत्न को डील बना लिया. सम्मान नहीं आपलोग डिलिंग करते हैं. हमलोगों ने कितना आरक्षण बढ़ा दिया. 75 प्रतिशत तक आरक्षण का दायरा बढ़ा दिया. हमलोग विचारधारा को मानने वाले लोग हैं. एक जगह खड़े रहते हैं तो मजबूती के साथ खड़े रहते हैं. उपाध्यक्ष महोदय हमको किसी बात का डर नहीं है. हम लालू जी के बेटे हैं और इन सब बातों से घबराते नहीं हैं.

उन्होंने कहा कि आप कहे थे कि क्रेडिट ले रहा है. विभाग मेरा मेरी पार्टी का, मंत्री मेरा और मेरी पार्टी का तो क्रेडिट कौन लेगा. पिछले सत्र में मांझी जी अपनी बात को रख रहे थे. उनका कहना था कि मुख्यमंत्री जी को गलत सलत दवाई खिलाई जा रही है और उनके ब्रेन को हाईजैक किया जा रहा है. अब वो आपके साथ आ गए हैं तो सही से इलाज करवाइएगा. नहीं तो मुख्यमंत्री आवास के बगल में रहना शुरू कर दीजिए. आपको अगर सही में चिंता है तो ऐसा ही कीजिए. इसमें कोई बुरा लगने वाली बात नहीं है.

तेजस्वी ने कहा कि सदन कैसे चलेगा, वो तो मुझे पता है. हमें तो जनता के बीच रहना है, काम करना है और हमें इस बात की चिंता नहीं है. बिहार के हित के लिए, बिहार की तरक्की के लिए सरकार की स्थिरता जरूरी है. हमको पीड़ा होती है जेडीयू के विधायकों को लेकर, मुख्यमंत्री जी तो इधर उधर होते रहते हैं लेकिन विधायकों को तो जनता के बीच जाना है. वो जनता को क्या जवाब देंगे. क्या आप कहेंगे कि हमने नौकरी दी. ये लोग इवेंट मैनेजमेंट करते रहें और धर्म की राजनीति करते रहें पर यह सच है कि भाजपा को अगर किसी से डर था पूरे हिन्दुस्तान में तो बिहार से था. मुख्यमंत्री जी जब आप हमारे साथ थे तो ये लोग डरे हुए थे. स्वास्थ्य विभाग में एक लाख से अधिक भर्तियों को लेकर मैं लगातार आपलोगों से बोलता रहा हूं कि इसे पास करवा दीजिए पर कोई रिस्पांस नहीं मिल पा रहा है.

पूर्व डिप्टी सीएम ने कहा कि आज हमारे प्रह्लाद जी सबसे बुजुर्ग हैं, हम आपको धन्यवाद करते हैं कि आप पार्टी का इतने दिन तक झंडा बुलंद किए रहे. कोई आए या न आए, जब समय आएगा तो तेजस्वी आएगा. मेरा छोटा भाई चेतन जब कही भी इनको शरण नहीं मिला तो हमने टिकट दिया. इनके पिता के गुण पर नहीं, इन पर तरस खाकर. नौजवानों को आगे किया. हमें थकी हुई राजनीति नहीं करनी है. यह कोई नई बात नहीं है. नीलम जी, आपने जो निर्णय लिया, हम स्वागत करते हैं. बात बने या न बने, बाद में हमें जरूर याद कीजिएगा. केंद्र जो भी देता है वो मोदी जी के पैसे से नहीं आते हैं, वो जरूर लीजिएगा. कुछ हमारे बाकी काम हैं, उन्हें करवा दीजिएगा. डबल इंजन की सरकार है तो आपने मोदी जी से मिलकर विशेष पैकेज की मांग की होगी. विशेष राज्य का दर्जा ही दिलवा दीजिएगा. महागठबंधन के विधायकों का शुक्रिया अदा करता हूं कि वे इस लड़ाई में हमारे साथ बने हैं।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *