vijay shankar

पटना : मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आज 4, देशरत्न मार्ग स्थित मुख्यमंत्री सचिवालय परिसर में आयोजित ‘जनता के दरबार में मुख्यमंत्री कार्यक्रम में शामिल हुए। ‘जनता के दरबार में में मुख्यमंत्री कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने राज्य के विभिन्न जिलों से पहुंचे 78 लोगों की समस्याओं को सुना और संबंधित विभागों के अधिकारियों को समाधान के लिए समुचित कार्रवाई के निर्देश दिए।

आज ‘जनता के दरबार में मुख्यमंत्री’ कार्यक्रम में सामान्य प्रशासन विभाग, ग्रामीण विकास विभाग, ग्रामीण कार्य विभाग, पंचायती राज विभाग, ऊर्जा विभाग, पथ निर्माण विभाग, लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग, कृषि विभाग, सहकारिता विभाग, पशु एवं मत्स्य संसाधन विभाग, जल संसाधन विभाग, उद्योग विभाग, नगर विकास एवं आवास विभाग, खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग, परिवहन विभाग, पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग, लघु जल संसाधन विभाग, योजना एवं विकास विभाग, पर्यटन विभाग, भवन निर्माण विभाग, वाणिज्य कर विभाग, सूचना एवं जन-सम्पर्क विभाग, गन्ना (उद्योग) विभाग तथा विधि विभाग से संबंधित मामलों पर सुनवाई हुयी।

‘जनता के दरबार में मुख्यमंत्री’ कार्यक्रम में बक्सर जिले से आई श्रीमती मंजू देवी ने मुख्यमंत्री से आग्रह करते हुए कहा कि डुमरांव प्रखंड के नुआंव पंचायत में बक्सर-पटना फोर लेन सड़क बनाई जा रही है। इस सड़क में अंडरपास का निर्माण किया गया है लेकिन सर्विस रोड एवं नाला का निर्माण नहीं किया गया है। मुख्यमंत्री ने संबंधित विभाग को समुचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

मधुबनी जिले से आये श्री तरुण कीर्ति ने मुख्यमंत्री से गुहार लगाते हुये कहा कि बिहार राज्य फसल सहायता योजना के अंतर्गत खरीफ वर्ष 2020 के लिए मिलनेवाली फसल क्षति की राशि अबतक मुझे नहीं मिल पाई है। मुख्यमंत्री ने संबंधित विभाग को समुचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

दरभंगा जिले से आयी श्रीमती सीता देवी ने मुख्यमंत्री से गुहार लगाते हुए कहा कि सड़क दुर्घटना में मेरे पति की मृत्यु हो गई और पुत्र गंभीर रूप से घायल हो गया। सड़क दुर्घटना के बाद मिलनेवाली सहायता राशि मुझे अबतक नहीं प्राप्त हो सकी है। मुख्यमंत्री ने संबंधित विभाग को समुचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

कैमूर जिले से आए मो० इस्लाम खान ने मुख्यमंत्री से आग्रह करते हुए कहा कि भभुआ जिला मुख्यालय से मेरे गांव पलका की दूरी 4 कि०मी० है। जिला मुख्यालय से मेरे गांव तक सड़क का निर्माण कराया जाए। इस सड़क के बन जाने से मुंडेश्वरी धाम जाने की दूरी कम हो जाएगी और शहर का फैलाव भी दक्षिण दिशा की तरफ होगा। मुख्यमंत्री ने संबंधित विभाग को समुचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

सीतामढ़ी जिले से आए श्री रंजीत कुमार मिश्रा ने मुख्यमंत्री से गुहार लगाते हुए कहा कि रीगा चीनी मिल पुनः चालू किया जाए। इससे 5 हजार किसानों और मजदूरों को काफी लाभ होगा। क्षेत्र के लोगों को काफी राहत मिलेगी। मुख्यमंत्री ने गन्ना (उद्योग) विभाग को समुचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

भागलपुर से आयी श्रीमती रीता सिंह ने मुख्यमंत्री से गुहार लगाते हुए कहा कि मेरे पति सरकारी सेवा में थे। सेवाकाल के दौरान ही उनकी मृत्यु हो गयी लेकिन मृत्यु के उपरांत बकाये वेतन का भुगतान, पारिवारिक पेंशन एवं अनुकंपा के आधार पर नियुक्ति नहीं हो पायी है। मुख्यमंत्री ने संबंधित विभाग को समुचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

कैमूर जिला से आये श्री घनश्याम कुमार ने मुख्यमंत्री से गुहार लगाते हुए कहा कि चांद प्रखंड स्थित किलनी ग्राम के दलित-महादलित टोले का संपर्क मुख्य ग्रामीण सड़क से नहीं है। संपर्क पथ का निर्माण कराया जाय, जिससे हमलोगों को आवागमन में काफी सुविधा होगी। मुख्यमंत्री ने ग्रामीण कार्य विभाग को समुचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

गोपालगंज जिला से आये श्री गुड्डू प्रसाद ने मुख्यमंत्री से शिकायत करते हुए कहा कि सासामुसा शुगर मिल के द्वारा किसानों का वर्ष 2017-18 से वर्ष 20202-21 तक खरीदे गये गन्ने के मूल्य का भुगतान नहीं किया गया है। मुख्यमंत्री ने गन्ना (उद्योग) विभाग को समुचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

नालंदा जिले से आयी श्रीमती अर्पणा कुमारी सिन्हा ने मुख्यमंत्री से आग्रह करते हुए कहा कि मेरी रैयती जमीन पर अनुचित तरीके से सड़क का निर्माण कराया जा रहा है जिसके कारण खेती करने में असुविधा हो रही है। मुख्यमंत्री ने संबंधित विभाग को समुचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

शिवहर जिला से आये परमेंद्र कुमार ने मुख्यमंत्री से शिकायत करते हुए कहा कि शिवहर थाना के समीप मुख्य पथ पर असामाजिक तत्वों द्वारा अतिक्रमण कर आवागमन को बाधित किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने संबंधित विभाग को समुचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

‘जनता के दरबार में मुख्यमंत्री’ कार्यक्रम में वित्त, वाणिज्य कर एवं संसदीय कार्य मंत्री श्री विजय कुमार चौधरी, ऊर्जा सह योजना एवं विकास मंत्री श्री बिजेन्द्र प्रसाद यादव, जल संसाधन सह सूचना एवं जन-सम्पर्क मंत्री श्री संजय कुमार झा, भवन निर्माण मंत्री श्री अशोक चौधरी, ग्रामीण विकास मंत्री श्री श्रवण कुमार, लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण मंत्री श्री ललित कुमार यादव, कृषि मंत्री श्री कुमार सर्वजीत, पशु एवं मत्स्य संसाधन मंत्री मो० आफाक आलम, खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री श्रीमती लेशी सिंह, उद्योग मंत्री श्री समीर कुमार महासेठ, परिवहन मंत्री श्रीमती शीला कुमारी, लघु जल संसाधन मंत्री श्री जयंत राज, विधि मंत्री श्री शमीम अहमद, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री दीपक कुमार, मुख्य सचिव श्री आमिर सुबहानी, पुलिस महानिदेशक श्री आर०एस० भट्टी, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव डॉ० एस० सिद्धार्थ, संबंधित विभागों के अपर मुख्य सचिव/ प्रधान सचिव/सचिव, मुख्यमंत्री के सचिव श्री अनुपम कुमार, मुख्यमंत्री के विशेष कार्य पदाधिकारी श्री गोपाल सिंह तथा वरीय पुलिस अधीक्षक श्री राजीव
मिश्रा उपस्थित थे।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *