सुबोध,
किशनगंज । एक सौ बावन वर्षीय ऐतिहासिक खगड़ा मेला का भव्य उद्घाटन देर शाम शुक्रवार को हुयी । इस अवसर पर बतौर मुख्य अतिथि जिलाधिकारी तुषार सिंगला एवं विशिष्ट अतिथि पुलिस अधीक्षक डॉ इनामुल हक मेगनू ने संयुक्त रूप से मेला का विधिवत् उद्घाटन समारोहपूर्वक किया। मौके पर एडीएम अनुज कुमार, उपविकास आयुक्त स्पर्श गुप्ता जिला जनसंपर्क पदाधिकारी मो. मिन्हाज उद्दीन सहित नगर परिषद मुख्य पार्षद इंन्द्रदेव पासवान,नगर परिषद कार्यपालक पदाधिकारी सहित जिले के अन्य प्रमुख पदाधिकारी सम्मानित अतिथि के रूप में उद्घाटन समारोह का साक्षी बने।जिलाधिकारी ने समारोह को संबोधित कर कहा कि खगड़ा मेला जिले की ऐतिहासिक पहचान है। भौगोलिक परिवेश में इस जिले के साथ बंगलादेश,भुटान,नेपाल राष्ट्र के साथ-साथ पश्चिम बंगाल एवं पूर्वोत्तर राज्यों भी जुड़ता है।इस दृष्टि से यदि इस मेले का आयोजन वर्ष में दो बार आयोजित करने पर विचार किया जा सकता है । क्योंकि मेले के आयोजन से रोजगार भी विकसित होता है और सरकार को राजस्व भी उपलब्ध होगें। जिलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक सहित प्रशासन की टीम के साथ मेले का भ्रमण कर निरीक्षण किया।
पुलिस अधीक्षक डॉ इनामुल हक मेगनू ने अपने संबोधन में कहा कि वेशक जिलावासी एवं मेले में आने वाले पर्यटक यहां के विभिन्न खेल तमाशे, आकर्षक सामग्री इत्यादि सहित खान-पान के दुकानों का लुफ्त उठाएं ।साथ ही मेरी अपील होगी कि शांतिपूर्ण एवं निर्भीक होकर भ्रमण करें, सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध है। एसपी ने कहा कि मेरा आग्रह व आदेश है कि रात्रि दस बजे के बाद ध्वनि विस्तार यंत्र का शोर-शराबा कम होनी चाहिए।जिसके कि रिहायशी लोगों को रात्रि में कोई परेशानी की शिकायत न मिलें।
इससे पूर्व में मेला संवेदक बबलू साहा के टीम के द्वारा मंचासीन सम्मानित अतिथियों का स्वागत एवं मेले के आयोजन में किए गये प्रयास पर विस्तृत चर्चा कर कहा कि जिलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक महोदय से प्रेरणा लेकर हर संभव कोशिश की है और मेले में मैंने विभिन्न प्रकार के आकर्षक सामग्री की दुकानें,झुले, सर्कस एवं खेल तमाशे दुर-दराज से लाकर सजाने का एक प्रयास किया है ।आशा है पर्यटकों को जरूर लुभाएगी एवं आनंदित करेगा। इसके साथ ही सुरक्षा के दृष्टिकोण से कुल बत्तीस सीसी टीवी कैमरे जगह-जगह लगाऐं गये हैं।इस वर्ष 2024 का खगड़ा मेला बिल्कुल ही नवीन स्वरूप में आयोजित है।
उल्लेखनीय है कि खगड़ा मेले का वजूद ब्रिटिश शासन काल में नवाब सैयद अता हुसैन मिर्जा के द्वारा वर्ष 1883 ई.में स्थापित हुआ था ।तब ऐतिहासिक खगड़ा मेला का अपना एक विशिष्ट महत्व था । इस सीमावर्ती जिला का नाम खगड़ा किशनगंज के रूप में राष्ट्रीय एवं ऐसिया स्तर पर विख्यात है। वर्तमान में बंगलादेश (यानि पूर्वीपाकिस्थान )पड़ोसी देश‌ नेपाल व भूटान के व्यापारी ही नही बल्कि देश- विदेश से भी पर्यटकों का इस मेले में आना होता था। आजादी के बाद वर्ष 1952 ई. से यह मेला प्रशासन के अधीन हो गया था। बिहार राज्य में सोनपुर मेला के बाद दुसरे स्थान पर खगड़ा मेला को माना जाता रहा है। लेकिन समय के साथ ही इस मेले का क्षेत्र अतिक्रमण होकर सिमट सा गया है।भव्य आकर्षण का केन्द्र खगड़ा मेला जिलावासियो सहित पर्यटकों को जरूर लुभाएगी।
मौके पर जिला प्रशासन के अन्य सभी प्रमुख पदाधिकारी,नप उपमुख्य पार्षद निखत प्रवीण,नप पार्षद एवं पूर्व लोजपा जिलाध्यक्ष भाई कलीमुद्दीन सहित विभिन्न राजनैतिक दल के नेतागण एवं समाजसेवी इत्यादि मेला के उद्घाटन समारोह में साक्षी बने।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *