सरस्वती पूजा (वसंत पंचमी) के अवसर पर विधि-व्यवस्था संधारण हेतु तैयारियों की डीएम व एसएसपी ने की अनुमंडलवार समीक्षा

डीएम व एसएसपी ने कहाः , सभी पदाधिकारी इसके लिए सजग, तत्पर एवं प्रतिबद्ध रहें

किसी भी तरह की संदेहास्पद सूचना जिला नियंत्रण कक्ष एवं आपात नम्बर सेवा 112 पर तुरत देने तथा असामाजिक तत्वों से सख्ती से निपटने का डीएम व एसएसपी ने दिया निदेश

क्यूआरटी एवं क्यूएमआरटी सक्रिय रखें: डीएम व एसएसपी का निदेश

कृत्रिम तालाबों में ही मूर्तियों का विसर्जन तथा डीजे पर रोक सुनिश्चित करने का डीएम व एसएसपी ने दिया निदेश

अधिकारीगण सार्थक समन्वय तथा सुदृढ़ संवाद स्थापित रखें: डीएम व एसएसपी

नवराष्ट्र मीडिया ब्यूरो

पटना : जिला पदाधिकारी, पटना  शीर्षत कपिल अशोक एवं वरीय पुलिस अधीक्षक, पटना राजीव मिश्रा ने कहा है कि सरस्वती पूजा (वसंत पंचवी), 2024 के अवसर पर उत्कृष्ट भीड़ प्रबंधन, सुदृढ़ विधि-व्यवस्था संधारण तथा सुचारू यातायात प्रबंधन प्रशासन की सर्वाेच्च प्राथमिकता है। सभी अधिकारी इसके लिए पूर्णतः सजग, तत्पर एवं प्रतिबद्ध रहेंगे एवं निर्देशों का अक्षरशः अनुपालन करेंगे। अधिकारीद्वय आज समाहरणालय स्थित सभाकक्ष में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आयोजित एक बैठक में अनुमंडल पदाधिकारियों, अनुमंडल पुलिस पदाधिकारियों, पुलिस उपाधीक्षकों, नगर कार्यपालक पदाधिकारियों, प्रखंड विकास पदाधिकारियों, अंचलाधिकारियों, थानाध्यक्षों एवं अन्य को संबोधित कर रहे थे।

जिलाधिकारी एवं वरीय पुलिस अधीक्षक ने कहा कि सरस्वती पूजा के अवसर पर तीन फेज के लिए सुदृढ़ प्रशासनिक तैयारी सुनिश्चित की जानी हैः- आयोजन के पूर्व की तैयारी, पूजा के दौरान तथा विसर्जन के दौरान। अधिकारीद्वय ने सभी पदाधिकारियों को हर फेज की त्रुटिहीन तैयारी सुनिश्चित करने का निदेश दिया। जिलाधिकारी एवं वरीय पुलिस अधीक्षक ने कहा कि सभी पदाधिकारी टीम भावना से काम करें। सार्थक समन्वय तथा सुदृढ़ संवाद स्थापित रखें।

डीएम व एसएसपी ने कहा कि सरस्वती पूजा के अवसर पर विधि-व्यवस्था संधारण हेतु सभी तैयारी सुनिश्चित रखें। मानकों के अनुसार दण्डाधिकारियों एवं पुलिस पदाधिकारियों की प्रतिनियुक्ति करें। क्षेत्रीय पदाधिकारीगण सभी हितधारकों (स्टेकहोल्डर्स) से नियमित संवाद कायम रखें। शांति समिति की ससमय बैठक कर लें। सभी अनुमंडल पदाधिकारी एवं अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी अपने-अपने क्षेत्रों में तैयारियों का पर्यवेक्षण करें। आसूचना तंत्र को सुदृढ़ एवं सक्रिय रखें। सोशल मीडिया मॉनिटरिंग सेल को सतत क्रियाशील रखें। अफवाहों का त्वरित खंडन करें। पूर्व की घटनाओं में शामिल लोगों के विरूद्ध निरोधात्मक कार्रवाई करें। भीड़ की गतिविधियों पर सीसीटीवी से निगरानी करें तथा इस आशय का फ्लेक्स/बैनर जगह-जगह प्रदर्शित करें कि आप सीसीटीवी की नजर में हैं। किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए क्विक रिस्पांस टीम(क्यूआरटी) एवं क्विक मेडिकल रिस्पांस टीम(क्यूएमआरटी)तैनात रखें। मद्य-निषेध अधिनियम का उल्लंघन करने वालों के विरुद्ध सख़्त कार्रवाई करें।

जिलाधिकारी एवं वरीय पुलिस अधीक्षक ने सभी अनुमंडल पदाधिकारियों एवं अनुमंडल पुलिस पदाधिकारियों को निदेश देते हुए कहा कि संवेदनशील स्थानों पर विशेष सतर्कता बरतें। विभिन्न इलाकों में पैदल फ्लैग मार्च करें। होटल, लॉज, हॉस्टल की नियमित जाँच करें। संदेहास्पद गतिविधियों पर लगातार नजर रखें। दंडाधिकारी एवं पुलिस पदाधिकारी तथा थानाध्यक्ष भ्रमणशील रहें। शत-प्रतिशत पूजा समिति को अनुज्ञप्ति निर्गत किया जाए। किसी भी परिस्थिति में बिना अनुज्ञप्ति की प्रतिमा/पंडाल की स्थापना/प्रतिमा जुलूस नहीं निकले यह संबंधित थानाध्यक्ष की व्यक्तिगत जिम्मेवारी होगी। जुलूस अनुज्ञप्ति में निर्धारित शर्तों का पूरी दृढ़ता से अनुपालन कराएँ। सभी अनुमंडल पदाधिकारी एवं अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी इस बात को ध्यान में रखेंगे कि विसर्जन यात्रा के पूर्व निर्धारित पारंपरिक मार्गों में परिवर्तन नहीं हो। विसर्जन यात्रा का दंडाधिकारियों के पर्यवेक्षण में वीडियोग्राफी कराएं। सीसीटीवी से निगरानी रखें। कृत्रिम तालाब घाटों पर भी दंडाधिकारियों एवं पुलिस पदाधिकारियों को तैनात रखें। मूर्ति विसर्जन के अवसर पर जुलूस के साथ गश्ती दलों को क्रियाशील रखें।

सरस्वती पूजा/मूर्ति विसर्जन के अवसर पर किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए महत्वपूर्ण स्थानों पर क्विक रिस्पांस टीम (क्यूआरटी) को तैनात रखें।

डीएम व एसएसपी ने सभी स्तरों- थाना/अंचल तथा अनुमंडल- पर ससमय शांति समिति की बैठक आयोजित करने का निदेश दिया है। शांति समिति में स्थानीय स्तर पर सक्रिय युवाओं को शामिल करने का निदेश दिया गया। 20-20 सक्रिय कार्यकर्ताओं की सूची संधारित रखने तथा प्रभावी कॉम्युनिकेशन प्लान क्रियाशील रखने का निदेश दिया गया। हर अनुमंडल में सरस्वती पूजा के अवसर पर व्हाट्एप ग्रुप को सक्रिए रखें जिसमें अधिकारियों के साथ स्थानीय स्तर पर सक्रिय युवा एवं अन्य गणमान्य व्यक्ति भी रहेंगे। अधिकारीद्वय ने निदेश दिया है कि पूजा के दौरान आपत्तिजनक स्लोगन, कार्टून इत्यादि पर रोक है। आतिशबाजी पर प्रतिबंध है। इसे पदाधिकारीगण सुनिश्चित करें। असामाजिक तत्वों के विरूद्ध निरोधात्मक एवं दण्डात्मक कार्रवाई करेंगे तथा विधि-व्यवस्था का समुचित संधारण सुनिश्चित करेंगे।

डीएम व एसएसपी ने कहा है कि अफवाह फैलानेवालों के विरूद्ध त्वरित एवं कड़ी कार्रवाई की जाएगी। यथेष्ट प्रशासनिक सतर्कता, निरोधात्मक एवं सुरक्षामूलक कार्रवाई की जाएगी। भा.दं.वि. की धारा 107/113 के अंतर्गत त्वरित कार्रवाई की जाएगी।

डीएम व एसएसपी ने कहा कि किसी भी प्रकार की संदेहास्पद सूचना 24×7 जिला नियंत्रण कक्ष (दूरभाष संख्या 0612-2219234/2219810) एवं आपात नम्बर सेवा 112 पर तुरत दें। जिला स्तर से त्वरित कार्रवाई की जाएगी।

डीएम व एसएसपी ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण के हित में सरस्वती पूजन के अवसर पर बिहार (पूजा के उपरांत मूर्ति विसर्जन प्रक्रिया) नियमावली, 2021 का क्रियान्वयन सुनिश्चित किया जाए। प्राकृतिक जल निकायों में मूर्ति एवं उसके सजावटी सामग्रियों के विसर्जन से जल प्रदूषण का कारण बनता है। अतः कृत्रिम तालाबों में ही मूर्मियों का विसर्जन सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने कहा कि नगर निकायों द्वारा मूर्ति विसर्जन हेतु कृत्रिम घाटों का निर्माण किया जाएगा।

जिलाधिकारी ने कहा कि पर्व-त्योहार के अवसर पर लाउडस्पीकर 06.00 बजे प्रातः से 10.00 बजे रात्रि तक ही निर्धारित डेसिबल के अनुरूप बजाया जा सकता है। सरस्वती पूजा में डीजे पर किसी भी परिस्थिति में पूर्ण प्रतिबंध रहेगा एवं पूर्णरूपेण वर्जित रहेगा। सभी अनुमंडल पदाधिकारी एवं अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी इसे सुनिश्चित कराएंगे।

जिलाधिकारी ने कहा कि किसी भी आकस्मिकता से निपटने हेतु आपदा प्रबंधन तंत्र पूर्णतः सक्रिय रखें। एसडीआरएफ एवं एनडीआरएफ को तैनात करें। सरस्वती पूजा/विसर्जन के दरम्यान नदी में बिना अनुमति के नाव परिचालन पर रोक है। सभी अनुमंडल पदाधिकारी इसे सुनिश्चित करेंगे।

डीएम व एसएसपी ने कहा है कि किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना को रोकना प्रतिनियुक्त किए जाने वाले दंडाधिकारी/थानाध्यक्ष/सीओ/एसडीओ/एसडीपीओ की विशेष जिम्मेवारी है। थानाध्यक्षों एवं अन्य पदाधिकारियों को आसूचना तंत्र को सुदृढ़ कर विधि-व्यवस्था संधारण को सफल बनाने का निदेश दिया गया है। थानाध्यक्ष अपने-अपने इलाके में विधि-व्यवस्था के लिए पूर्ण रूप से उत्तरदायी हैं।

जिलाधिकारी ने निदेश दिया कि सरस्वती पूजा के अवसर पर निर्बाध बिजली आपूर्ति सुनिश्चित की जाए। महाप्रबंधक, पेसू शहरी क्षेत्रों में तथा अधीक्षण अभियंता, विद्युत आपूर्ति, ग्रामीण क्षेत्र ग्रामीण क्षेत्रों में निर्बाध बिजली आपूर्ति सुनिश्चित करेंगे।

पुलिस अधीक्षक, यातायात उत्कृष्ट यातायात प्रबंधन सुनिश्चित करेंगे। साथ ही तैयार किए गए यातायात प्लान को आम जनों की सुविधा के लिए समाचार पत्रों में प्रकाशित कराएंगे।

सरस्वती पूजा के अवसर पर आकस्मिक स्थिति से निपटने हेतु डॉक्टर, पारा मेडिकल स्टाफ एवं आवश्यक जीवन रक्षक दवाओं के साथ एम्बुलेंस सिविल सर्जन प्रतिनियुक्त करेंगे।

जिला अग्निशमन पदाधिकारी, पटना को निर्देशित किया गया कि सरस्वती पूजा के अवसर पर आकस्मिक स्थिति से निपटने हेतु फायर दस्ता प्रतिनियुक्त करना सुनिश्चित करेंगे।

जिलाधिकारी एवं वरीय पुलिस अधीक्षक ने कहा कि सभी पदाधिकारी अपने-अपने क्षेत्रों में लगातार सक्रिय रहें।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *