आखिरकार हुआ मंत्रियों में विभागों का बंटवारा
नीतीश ने गृह विभाग को अपने पास ही रखा भाजपा की मांग ठुकराई

सम्राट बने वित्त मंत्री, खेल और स्वास्थ्य विभाग भी मिला
विजय सिन्हा के पास कृषि और पथ निर्माण समेत 9 विभाग
शिक्षा मंत्री बने विजय चौधरी
विजेंद्र यादव के पास ऊर्जा समेत दो विभाग, संतोष सुमन बने अनुसूचित जाति कल्याण मंत्री
सुमित सिंह को मिला विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग

स्टेट ब्यूरो

नव राष्ट्र मीडिया

पटना।
बिहार में एक सप्ताह पूर्व बनी एनडीए की नई सरकार में शनिवार को मंत्रिमंडल में विभागों का बंटवारा कर दिया गया। राज्यपाल से मंजूरी मिलने के बाद आज इस संबंध में सामान्य प्रशासन विभाग ने अधिसूचना जारी कर दी। मालूम हो कि नई सरकार गठन के बाद से भाजपा और जदयू में गृह विभाग को लेकर कशमकश जारी थी।
हालांकि इस बार भी नीतीश कुमार की ही जीत हुई। पिछले 18 साल से उनके पास गृह विभाग रहा है। इस बार भी गृह मंत्री नीतीश कुमार ही बने । उन्होंने गृह मंत्रालय को अपने पास रखते हुए विभागों का बंटवारा कर दिया है। गत 28 जनवरी को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में एनडीए सरकार बनने के बाद से ही विभागों के बंटवारे का मामला लटका था।
नीतीश कुमार के नेतृत्व में बनी सरकार में 8 मंत्रियों ने शपथ ली थी।  विभागों के बंटवारे से पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सूची को राजभवन भेजा , जिसे राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर ने मंजूर कर लिया ।
भाजपा के तमाम प्रयासों और दावों के बावजूद 45 विधायकों वाली पार्टी के मुखिया नीतीश कुमार ने इस बार भी गृह विभाग और सामान्य प्रशासन विभाग को अपने पास रखने में सफल हुए। वैसे बीजेपी को भी कई बड़े विभाग दिए गए हैं।
सम्राट चौधरी बिहार के नए वित्त मंत्री बने। उनके पास नगर विकास स्वास्थ्य और खेल जैसे बड़े-बड़े विभाग हैं। विजय कुमार सिन्हा के पास कृषि, पथ निर्माण, राजस्व एवं भूमि सुधार, गन्ना उद्योग, श्रम संसाधन समेत 9 विभाग है। इसके साथ-साथ जदयू कोटे से मंत्री बने विजय कुमार चौधरी के पास जल संसाधन, शिक्षा विभाग, भवन निर्माण और परिवहन समेत 6 विभाग हैं।
विजेंद्र प्रसाद यादव को ऊर्जा विभाग समेत पांच विभाग दिए गए हैं । इसके साथ ही प्रेम कुमार के पास सहकारिता समेत पांच विभाग दिए गए हैं।
श्रवण कुमार के पास ग्रामीण विकास समेत तीन विभाग होंगे। हम कोटे से मंत्री बने संतोष कुमार सुमन के पास अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति समेत दो विभाग दिए गए हैं। निर्दलीय कोटे से विधायक बने सुमित कुमार सिंह के पास उनका पुराना विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय रखा गया है। वर्तमान में कुल 8 मंत्री हैं। जिनमें भाजपा कोटे से दो डिप्टी सीएम सम्राट चौधरी और विजय सिन्हा हैं। प्रेम कुमार को भी मंत्री बनाया गया है। राजनीतिक हलकों की चर्चा के मुताबिक जदयू छोटी पार्टी होने के बावजूद इस सरकार में भी भाजपा पर हावी हो गई । जदयू के नीतीश कुमार पुनः मुख्यमंत्री बन गये । बड़ी पार्टी भाजपा के रहने के बावजूद उसके मंत्रियों को गृह विभाग कार्मिक विभाग जैसे महत्वपूर्ण विभाग नहीं मिले। जबकि इसके लिए भाजपा ने कड़ा संघर्ष किया । काफी रस्साकसी चलती रही , लेकिन आखिरकार नीतीश कुमार की ही जीत हुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *