स्थानीय शीला मैरिज हॉल में भक्तिमय व आध्यात्मिक कार्यक्रम में रामकथा 

विजय शंकर

पटना : स्थानीय शीला मैरिज हॉल में हर वर्ष आयोजित होने वाले भक्तिमय व आध्यात्मिक कार्यक्रम में इस वर्ष राम कथा का वाचन  अयोध्या से आए विश्व विख्यात मानस मर्मज्ञ शिरोमणि संत शिरोमणि रामानंद दास जी महाराज कर रहे हैं जिसमें बड़ी संख्या में स्थानीय लोग प्रवचन का लाभ ले रहे हैं । 24 दिसंबर से 3 जनवरी 2024 तक होने वाले इस कार्यक्रम में प्रतिदिन प्रवचन भजन का कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है जिसमें न सिर्फ संत शिरोमणि रामानंद दास जी का प्रवचन होता है बल्कि उनके साथ आए टीम के अन्य सदस्य भी प्रवचन सुनाते हैं ।

24 दिसंबर को कार्यक्रम की शुरुआत की गई । 25 दिसंबर को प्रवचन में रामानंद दास जी महाराज ने कहा कि भगवान के अवतार का कारण बताना असंभव है क्योंकि एक अवतार में भगवान के अनेक कार्य होते हैं । जब-जब भी धर्म का लोप होता है, धर्म कमजोर पड़ता है, तभी भगवान को आना पड़ता है । मुख्य कारण के अलावा अवतार में भगवान कई काम कर जाते हैं। राम अवतार में भी भगवान श्री राम ने सिर्फ ऋषि मुनियों की रक्षा ही नहीं की बल्कि राक्षसों के आतंक खत्म किया , लंका पति रावण का  संहार किया । साथ ही कई पुण्य के भी काम किये जिसमें अहिल्या उद्धार,  शबरी को शाप से मुक्ति जैसे अनेक पुनीत कार्य किये गए ।

रामानंद दास जी महाराज ने नारद प्रसंग के तहत भगवान राम के उन परिस्थितियों का उल्लेख किया जिसमें नारद मुनि के कहने पर भगवान राम भगवान शंकर के पास गए थे जिन्होंने भगवान राम को उनके वास्तविक शक्ति का एहसास कराया था । प्रसंग में राम कथा से जुड़ी कई अनछुए पहलुओं का भी चित्रण संत शिरोमणि रामानंद दास जी महाराज ने किया। प्रवचन शुरू करने से पहले
रामानुज जी ने कथावाचक शिरोमणि रामदास जी महाराज का माल्यार्पण कर प्रवचन मंच तक पहुँचाया ।

राम कथा के आयोजक और शीला मैरिज हॉल के मलिक सुदर्शन प्रसाद सिन्हा ने कहा कि प्रवचन के आयोजन से मन व हृदय को शांति मिलती है और साथ ही प्रवचन सुनने का लाभ स्थानीय लोगों को भी मिलता है । उन्होंने कहा कि आयोजन स्वर्गीय पत्नी शीला देवी की 15वीं पुण्यतिथि के मौके पर किया गया है और अंतिम दिन उनको श्रद्धांजलि देने के बाद आयोजन की समाप्ति होगी । प्रवचन सुनने आये पटना उच्च न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता दुर्गेश प्रसाद सिन्हा ने कहा , आयोजक सुदर्शन प्रसाद सिन्हा के परम मित्र और हर साल आयोजन में हर काम में सक्रीय रहने वाले व व्यवस्था देखने वाले राजनेता हरेराम की अस्वस्थता के कारण उनकी गैरमौजुदगी खल रही है ।

 

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *